Tuesday, May 22, 2012

मोटू-पतलू और प्राइवेट ख़ुफ़िया


Download 18MB
Download 29MB
मोटू-पतलू और प्राइवेट ख़ुफ़िया
मोटू -पतलू
लोटपोट का सबसे प्रसिद्ध चरित्र , जिसको डाइमन्ड कॉमिक्स वाले ने खूब इस्तेमाल किया और उनकी कई कॉमिक्स निकली और यहाँ तक की इन चरित्र को इस्तेमाल करके बाल पाकेट बुक्स भी खूब छापी. और इन्ही बाल पाकेट बुक में से एक बाल पाकेट बुक आज मै अपलोड करने जा रहा हूँ . वैसे तो राज कॉमिक्स के चरित्रों के अलावा अगर कोई और चरित्र जिन्दा है तो वो , मोटू पतलू ही है, जो कि लोट पोट में आज भी छापे जाते है ( प्राण के चरित्र कि बात नहीं कर रहा हूँ क्योंकि वो सिर्फ रि- प्रिंट हो रहे है नया कुछ नहीं आ रहा है ) अब समय है कहानी के बारे में कुछ बताने कि तो इस बार मै आप सबसे माफ़ी चाहूँगा, मोटू- पतलू चाहे जितने प्रसिद्ध हो पर मुझे कभी भी पसंद नहीं आये. कारण मेरा दिल कभी भी अपने हीरो कि बेज्जती नहीं देख पता है और यही कारण है कि आज तक मुझे ऐसे हीरो कभी भी पसंद नहीं आये. मेरा हीरो ही पिट जाये ये मुझे बर्दास्त नहीं होता वैसे पाकेट बुक में ऐसा कम होता है , पर होता तो है इसलिए नहीं पढता हूँ और न ही इससे पढ़ा. इसलिए कुछ भी कहना अच्छा नहीं होगा हाँ किसी दिन मन कड़ा करके पढने कि कोशिश जरुर करूँगा. तब तक आप खुद पढ़ कर देखें .

Monday, May 14, 2012

अविष्कारक का अपहरण



Download 15MB
Download 23MB
अविष्कारक का अपहरण
फिर से मुझे एक और बाल पाकेट बुक मिली है राजन- इकबाल सिरीज़ की और वो भी एस. सी. बेदी जी की लिखी हवी नहीं है. ऐसा मेरे साथ सिर्फ दूसरी बार हुवा है और कहानी के लिहाज़ से नोवल बहुत ही अच्छी है, राजन -इकबाल का कुछ नया पढने को मिले वो भी बेदी जी से जुदा लेखनी में और वो भी अच्छी बन जाये तो मज़ा ही कुछ और है. वैसे तो ये लेखक और पब्लिसर तारीफ के काबिल है जिन्होंने अंधी दौड़ न दौड़ कर राजन-इकबाल सिरीज़ सही लेखक के नाम से छाप दिया है, नहीं तो उस समय ये ही देखने को मिलता था की लिखे कोई भी पर नोवल पर एस.सी.bedi और और राजन -इकबाल ही लिखा होता था.