Wednesday, June 27, 2012

राजा पॉकेट बुक्स-खौफनाक कातिल


राजा पॉकेट बुक्स-खौफनाक कातिल
जैसा की आप सब को याद होगा, कुछ बातो को लेकर मै अपने आप से बहुत नाराज़ था और मेरे लिए बहुत मुश्किल था दुबारा कॉमिक्स/बाल पॉकेट बुक्स स्कैन करना पर जिस तरह का साथ मुझे अपने मित्रों का मिला उसे देखकर ये तो समझ में आ गया की जिसे कुछ बुरे लोग दुनियां में है वैसे ही बहुत अच्छे लोग भी इस दुनियां में है और वो मेरे साथ खड़े है, जो मेरे लिए संतोष की बात है.और जैसे मै कुछ लोगो के कारण स्कैन न करने की बात सोच सकता हूँ वैसे ही बहुत लोगो के लिए स्कैन दुबारा करने के लिए भी तैयार हो सकता हूँ . और इन सब से ऊपर वो बात है की आप अगर सही रस्ते पर है तो इश्वर आप का साथ जरुर देता है और वही हुआ और मुझे १२०० कॉमिक्स प्रिंट रेट पर मिल गयी और ऐसी कॉमिक्स जो की मै बहुत दिन से ढूंड रहा था और कुछ बाल पॉकेट बुक्स वो भी प्रिंट रेट पर. तब से मुझे यकीन हो गया है की मै अपना काम करता रहू तो इश्वर मेरा साथ जरुर देगा. अब बात करते है यस. सी . बेदी की राजन इकबाल सिरीज़ की जो की हमेश की तरह ही बेहतर कहानी से लैस है और खौफनाक कातिल भी वैसी ही है. मन तो बहुत हो रहा है इस कहानी के बारे में बात करने की पर ज्यादा बात कहानी का मज़ा ख़राब कर देगी इसलिए इसे डाउनलोड कर खुद ही पढ़े .

Sunday, June 10, 2012

शिप्रा बाल पाकेट बुक - हाईजैक

शिप्रा बाल पाकेट बुक
की ये एक मात्र बाल पाकेट बुक है मेरे पास. और एक ही बाल पाकेट की चार कॉपी मिली है कभी -कभी तो ऐसा लगता है जैसे कॉमिक्स और बाल पाकेट बुक्स खरीद कर कोई गुनाह कर रहा हूँ. अब तो इस काम से मन ऊबने लगा है , न दिल कॉमिक्स/ बाल पाकेट बुक्स स्कैन करने में लग रहा है और न पोस्ट करने में. हर कोई हमसे सिर्फ या तो पैसा चाहता है (जो कॉमिक्स या बाल पाकेट बुक बेचता है ) या फिर स्कैन कॉपी ( वो जो नेट पर मुफ्त में कॉमिक्स या बाल पोकेट बुक्स पढना चाहते है ) यहाँ तक वो लोग भी हमारा फ़ायदा उठाने में भी नहीं चुकते, जो की हमारी स्कैन की हुयी कॉमिक्स तो फ्री में पढ़ लेते है और अगर उन्हें गलती से कही से कॉमिक्स/बाल पाकेट बुक्स मिल जाती है तो वो उसके भी अपनी लागत से ४ गुना मागने में भी शर्म नहीं करते जबकि एक तरफ हम है की अपना पैसा लगा कर लोगो की मुफ्त में सेवा करते है. मै ये तो नहीं कहता की कोई हमें मुफ्त में कुछ दे दे , नहीं हमें किसी का आह्सान नहीं चाहिए पर कम से कम इस काम में जो की हम अपना घर फूक कर रहे है उसे इतना मुश्किल न बना दें की हम ये सब छोड़ कर औरों की तरह अपने बचपन को बचाने की कोशिश करना बंद कर दें . मन तो इतना दुखी है की अब कॉमिक्स/बाल पाकेट बुक्स न खरीदने का मन बना लिया है और रही स्कैन और अपलोड करने की बात फिलहाल इससे जारी रखने की कोशिश तो करूँगा पर क्या होगा कुछ कह नहीं सकता.